Saturday, February 4, 2012


मेरे अस्तित्व के अटल से
उठी हैं एक दूर्निवार जिज्ञासा

कौन हूँ मैं ?
कौन की खोज मे हूँ  मैं ?
धरती और आकाश की
संगति सी हूँ  मैं
जो हैं पर नहीं हैं
जो नहीं हैं पर हैं
ऐसी क्षितिज सी हूँ  मैं
तुम कहते हो न तद्भासयते सूर्यो
और मैं हर दिन मेरी कोख से
जन्म देती हूं एक नये सूर्य को
तुम कहते हो
न शशांको
और मै
सूर्य को ले लेती हूं अपने आगोश मे
कौन हो तुम ?
कौन हूँ  मैं ?
क्यों मैं अनजानी हूं अपने आपसे ?
क्यों सम्मोहित हूँ  मैं
तुम्हारी बाँसुरी के नाद से ?
YASODHARA PREETI

3 comments:

  1. अच्छी कविता है। अपने आस्तित्व की खोज करता है इन्सान।

    ReplyDelete
  2. बबीता वाधवानीji thankx

    ReplyDelete
  3. आज 10/07/2012 को आपकी यह पोस्ट (विभा रानी श्रीवास्तव जी की प्रस्तुति मे ) http://nayi-purani-halchal.blogspot.com पर पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!

    ReplyDelete